1. Home
  2. Hindi
  3. उत्तर प्रदेश में, एक छोटा सा पारिवारिक व्यवसाय महामारी के बीच एक गांव के लिए जीवन का सहारा बन गया

उत्तर प्रदेश में, एक छोटा सा पारिवारिक व्यवसाय महामारी के बीच एक गांव के लिए जीवन का सहारा बन गया

0
Read this article in বাংলা | English | தமிழ் | ಕನ್ನಡ | ગુજરાતી | मराठी

जब मेघदूत हर्बल की स्थापना 35 साल पहले लखनऊ के पास एक दूरदराज के गांव में हुई थी, तो इसका उद्देश्य आस-पास रहने वाले लोगों के लिए रोजगार पैदा करना था। 2020 की शुरुआत में, जब एक वैश्विक महामारी ने इसके मूल अस्तित्व के लिए संकट पैदा किया, तो पारंपरिक परिवार के स्वामित्व वाले इस व्यवसाय ने, जो अब फ्लिपकार्ट समर्थ पार्टनर है, इस संकट का मुकाबला किया और कठिन समय में ई-कॉमर्स का लाभ उठाया। उत्तर प्रदेश सरकार के साथ हस्ताक्षर किए गए एक एमओयू के निरीक्षण में फ्लिपकार्ट समर्थ कार्यक्रम द्वारा समर्थित विपुल शुक्ला के पारिवारिक व्यवसाय ने इसी तरह के कारोबारों को आगे बढ़ाने और सफलता प्राप्त करने का रास्ता दिखाया है। पढ़िए उनकी अविश्वसनीय कहानी।

उत्तर प्रदेश में, एक छोटा सा पारिवारिक व्यवसाय महामारी के बीच एक गांव के लिए जीवन का सहारा बन गया
0

1985 में, विपुल शुक्ला के दादाजी ने अपनी सारी बचत पूँजी का इस्तेमाल करके एक छोटा आयुर्वेद प्रोडक्ट बनाने वाला व्यवसाय शुरू किया जो लखनऊ, उत्तर प्रदेश के दूर-दराज गांव में था। मेघदूत हर्बल उस समय एक औसत दर्जे का व्यवसाय था — इसमें एक कार्यालय था और एक प्रोडक्शन प्लांट जिसका उद्देश्य आसपास रहने वाले लोगों को रोजगार प्रदान करना था। जल्द ही इसे यूपी खादी एंड विलेज इंड्रस्ट्रीज बोर्ड के साथ रजिस्टर किया गया (UPKVIB)।

इस कंपनी और इसके कई हर्बल प्रोडक्ट अब इस गाँव और तीन पीढ़ियों से परिवार का हिस्सा रहे हैं, जिसकी जिम्मेदारी दादा से पिता और अब विपुल और उनके भाई विश्वास के पास है, जो दिन-प्रतिदिन का व्यवसाय चलाते हैं।

ई-कॉमर्स के बारे में उनके कई तथाकथित रुकावटें होने के बावजूद, विपुल ने अंततः पारंपरिक पारिवारिक व्यवसाय को ऑनलाइन किया, जो हर्बल और अन्य प्राकृतिक उत्पादों और आयुर्वेदिक दवाओं का निर्माण करता है। मेघदूत हर्बल एक साल पहले ही फ्लिपकार्ट समर्थ पार्टनर बना था।

फ्लिप्कार्ट ने अपना समर्थ कार्यक्रम जुलाई 2019 में शुरू किया जिसका उद्देश्य लक्षित लाभों के साथ उनके प्रवेश को आसान बनाकर, ऑनलाइन व्यवसाय स्थापित करने और संचालन की लागत को कम करके भारत के कारीगरों, बुनकरों और हस्तकला उत्पादकों को ई-कॉमर्स में लाना था। फ्लिपकार्ट समर्थ, तब से, ग्रामीण कारोबारियों, महिलाओं के नेतृत्व वाले कारोबारों, दिव्यांग कारोबारियों, कारीगरों और बुनकरों जैसे समूहों को पहचानने और शामिल करने के लिए प्रतिष्ठित एनजीओ, सरकारी संस्थाओं और आजीविका मिशन के साथ मिलकर काम कर रहा है।

देश के ग्रामीण और वंछित समाज के भीतर क्षमताओं के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए, फ्लिपकार्ट समर्थ आज पूरे भारत में 500,000 से अधिक कारीगरों, बुनकरों और लघु उद्योगों की आजीविका में सहयोग करता है।

अक्टूबर 2, 2019 को, द फ्लिपकार्ट ग्रुप ने उत्तर प्रदेश खादी& एंड विलेज इंडस्ट्रीज बोर्ड के साथ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की उपस्थिति में, बोर्ड के तहत पंजीकृत राज्य के बुनकरों और ग्राम उद्योगों को समर्थ बनाने के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं।

ऑनलाइन स्पेस शुरूआत करने वाले विपुल कहते हैं, ”मैं मानता हूँ कि हमने अपना ऑनलाइन अभियान शुरू करने में देरी की” और कहते हैं, ”सीधी बात है कि हमें हरसंभव सहायता चाहिए। हम मूल बातें सीख रहे हैं।”

महामारी में व्यवसाय को बचाना

विपुल कहते हैं कि जनवरी 2020 के अंत के आसपास उन्हें कोरोनावायरस महामारी की गंभीरता की खबरे मिलने लगी। व्यवसायों और ग्राहकों दोनों के लिए आने वाले चुनौतीपूर्ण समय को भांपते हुए, टीम ने जल्दी से एक प्रोडक्ट लॉन्च करने का फैसला किया, जिसके बारे में उनके पास अब तक लॉन्च करने की कोई योजना नहीं थी।

“हमने फरवरी के अंत में प्रोडक्ट के रूप में सैनिटाइज़र जोड़ा। उस समय हमें थोड़ी बहुत प्रतिक्रिया मिली, लेकिन मार्च की शुरुआत में इसकी ऑनलाइन मांग की भरमार हो गई, “वह याद करते हुए कहते हैं,” सैनिटाइज़र बाजार में गैप भी था, जिसे हमने पूरा किया।”span>

“मार्च में एक समय, एक ही दिन में हमारी सेल इतनी थी जो हम पूरे एक महीने में करते थे,” वे स्वीकार करते हुए कहते हैं कि कम सक्रिय व्यवसायों और ई-कॉमर्स ने अधिक ग्राहकों की सेवा करने के अवसर खोले, जिससे, उनके ग्राहकों को उनके ब्रांड के बारे में पता चला।

जबकि बिक्री एक प्राथमिकता है, जैसा कि वे किसी भी व्यवसाय के लिए हैं, मेघदूत हर्बल का मिशन पास में काम करने वाले लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करना भी है। इसके कारखाने के अधिकांश कर्मी 10 किलोमीटर के दायरे में रहते हैं। प्रोडक्ट प्लांट पड़ोस के 300 लोगों को रोजगार देता है, जिनमें से लगभग 40% महिलाएं हैं, जो ज्यादातर पैकेजिंग सैक्शन में कार्यरत हैं। एमएससी या अन्य पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री वाले लोग लैब में या प्रोडक्टन में काम करते हैं।

विपुल बताते हैं, ” हमारे प्रोडक्ट हैंडमेड और हैंड-पैकेज्ड दोनों हैं।

जब लॉकडाउन पहली बार घोषित किया गया था, तो कर्मचारी प्रोडक्ट प्लांट में आने में असमर्थ थे। “यह हमारे लिए एक चिंता का विषय था। लेकिन हम स्थानीय अधिकारियों से संपर्क करने और उनके लिए आवश्यक पास प्राप्त करने में सक्षम थे। हमने अपने कर्मचारियों के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करना सुनिश्चित किया, जब वे काम पर वापस आए,” विपुल ने जोर देकर कहा।

महामारी के बीच नए तरीकों को अपनाने के लिए, सभी कर्मचारियों को सुविधा में आने से पहले थर्मल स्कैन किया जाता है और अब उन्हें हर दो घंटे में अपने हाथों को साफ करना और धोना अनिवार्य है। “ग्राहकों का आश्वासन दिया जा सकता है कि हमारे सभी प्रोडक्ट 100% सुरक्षित हैं,” वह जोर देकर कहते हैं।

लॉकडाउन के दौरान आवाजाही प्रतिबंधों के कारण, मेघदूत हर्बल के सभी उत्पादों को लखनऊ प्लांट से पूरे भारत में ग्राहकों को पैक किया गया और भेजा गया। “हमारे साथ काम करने वाले हर कोई ई-कॉमर्स के प्रभावों को देखकर खुश थे,” विपुल कहते हैं।

पारंपरिक पारिवारिक व्यवसाय की कल्पना करते हुए

अपने हर्बल उत्पादों की लोकप्रियता के बारे में बताते हुए, विपुल भारतीय घरों में इस्तेमाल किए जाने वाले प्राचीन ज्ञान की ओर इशारा करते हैं जिसमें जुकाम या बालों के झड़ने जैसे सामान्य रोगों से निपटने के लिए प्राकृतिक और पारंपरिक उपचारों का उपयोग किया जा सकता है।

“यह पारंपरिक विश्वास है जो ग्राहकों को हमारे उत्पादों की ओर खींचता है। एक बार जब वे परिणाम देखते हैं तो विश्वास बन जाता है, ”उन्होंने कहा कि ई-कॉमर्स ने उन्हें प्राकृतिक उत्पादों के बाजार के नए स्तर तक पहुंचने में मदद की है।

“इससे पहले ऑफ़लाइन पहुंच के साथ, हमारे उत्पाद उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के हिंदी भाषी बेल्ट में बेचे जाते थे,” वे बताते हैं। पारिवारिक व्यवसाय ऑनलाइन हो जाने के बाद, मेघदूत हर्बल ने कर्नाटक, महाराष्ट्र और यहां तक कि कश्मीर के ग्राहकों से आर्डर प्राप्त किए। “यह वास्तव में अच्छा लगा!” वे भावुक होकर कहते हैं। “अब हम भारत भर से हमारे उत्पादों के बारे में ईमेल प्राप्त करते हैं।”

आईआईटी (बीएचयू) से ग्रेजुएट, विपुल के पास परिवार के व्यवसाय के लिए बड़ी योजनाएं हैं, जो उन्होंने अपनी डिग्री हासिल करते ही संभाला। उन्होंने कहा, “आईआईटी में जाने का एकमात्र कारण गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त करना था। 9-5 की नौकरी मेरे बस की बात नहीं थी,” कठोर शब्दों में वह कहते हैं, उनकी चाहत थी देश के प्रमुख संस्थानों में से एक में प्रवेश करना और घर पर ही काम करना, जहां उनका दिल है।

बढ़ते ग्राहकों और ई-कॉमर्स के साथ, वह आश्वस्त है कि मेघदूत हर्बल आने वाले वर्षों में और भी बेहतर प्रदर्शन करेगा। “पहले, ज्यादातर 40 साल से ऊपर के लोग हमारी तरह के उत्पादों को पसंद करते थे। लेकिन अब, प्राकृतिक उत्पादों की बढ़ती मांग के साथ, 20 वर्ष से कम उम्र के लोग इसे खरीदते हैं। यह एक अच्छा संकेत है — स्वीकृति का संकेत।”

लॉकडाउन में राहत मिलने के बाद, नियमित व्यवसाय में वापस आना काफी चुनौतियों से भरा था, लेकिन विपुल ने त्वरित समाधान और तार्किक सहयोग के लिए फ्लिपकार्ट में अपने भागीदारों को श्रेय दिया।

“उन्होंने कहा कि फ्लिपकार्ट हर संभव तरीके से मददगार रहा है। “कोई गिला शिकवा नहीं है। जो होगा अच्छा होगा।

उत्तर प्रदेश सरकार के सहयोग से, फ्लिपकार्ट के समर्थ कार्यक्रम का उद्देश्य विपुल जैसे अधिक छोटे व्यवसायों को सशक्त बनाना है, ताकि वे मंच की ताकत के साथ सक्षम हो सकें और पूरे भारत के बाजारों तक पहुँच बना सकें।

“मुझे खुशी है कि यूपीकेवीआईबी और फ्लिपकार्ट के बीच एमओयू उत्तर प्रदेश के खादी कारोबारियों के लिए बढ़ते समावेश और बाजार पहुंच के माध्यम से जमीन पर वास्तविक बदलाव ला रहा है,” डॉ. नवनीत सहगल, आईएएस, एडिशनल चीफ सेक्रेटरी, एमएसएमई, एक्सपोर्ट प्रोमोशन, खादी & विलेज इंडस्ट्रीज़, उत्तर प्रदेश सरकार। “लखनऊ के एक व्यवसायी को इतने कम समय में फ्लिपकार्ट समर्थ कार्यक्रम का टॉप सैलर बनते देखना विशेष रूप से खुशी की बात है। उनकी सफलता की कहानी यूपी सरकार की विभिन्न पहलों के तहत ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के साथ कई और लोगों को प्रेरित करने वाली है। हम फ्लिपकार्ट के साथ अधिक करीबी साझेदारी करने की आशा करते हैं, जब हम राज्य के व्यवसायों और अनोखे उत्पादों का एक बड़ा हिस्सा ऑनलाइन लाने का प्रयास करते हैं।”

फ्लिपकार्ट समर्थ कार्यक्रम के बारे में अधिक जानने के लिए या पार्टनर बनने के लिए, कृपया click here.


यह भी पढ़ें: फ्लिपकार्ट समर्थ के साथ ई-कॉमर्स को अपनाकर, भारत के पारंपरिक कारीगरों का भविष्य उज्जवल है

Enjoy shopping on Flipkart

About the Author

Jishnu Murali
Jishnu Murali

जिष्णु मुरली फ्लिपकार्ट स्टोरीज़ के साथ एक लेखक हैं। वह भोजन, इतिहास और परंपरा के माध्यम से विभिन्न संस्कृतियों का अनुभव करना पसंद करते हैं। संगीत और गहरा हास्य उसे बनाए रखता है।